Mohabbat Ka Nishaan

उनकी मोहब्बत का अभी निशान बाकी हैं,
नाम लब पर हैं मगर जान अभी बाकी हैं,
क्या हुआ अगर देख कर मूंह फेर लेते हैं वो..
तसल्ली हैं कि अभी तक शक्ल कि पहचान बाकी हैं!

Unki Mohabbat Ka Abhi Nishaan Baki Hai,
Naam Hothon Par Hai, Jaan Abhi Baki Hai,
Kya Hua Agar Dekh Kar Muh Pher Leti Hai Wo,
Tasalli Toh Hai Ki Chehre Ki Pehchaan Abhi Baki Hai …

Write a Comment