Main Akela

मंजिल भी उसकी थी, रास्ता भी उसका था, एक मैं अकेला था, काफिला भी उसका था, साथ – साथ चलने की सोच भी उसकी थी, फ़िर रास्ता बदलने का फ़ैसला भी उसका था! आज क्योँ अकेला हूँ? दिल सवाल करता है, लोग तो उसके थे पर क्या खुदा भी उसका था…