Dard Shayari

Kaanto Si chubhti Hai

कांटो सी चुभती है तन्हाई,
अंगारों सी सुलगती है तन्हाई,
कोई आ कर हम दोनों को ज़रा हँसा दे,
मैं रोता हूँ तो रोने लगती है तन्हाई।

You Might Also Like

No Comments

    Leave a Reply