तुम्हें दिल्लगी भूल जानी पड़ेगी

तुम्हें दिल्लगी भूल जानी पड़ेगी….
.
.
.
मोहब्बत के खर्चे
उठाकर तो देखो।

सूरज, शाहदरा