Independence Day Shayari

Mitti Independence Day Shayari

यक़ीन हो, के ना हो, बात तो यक़ीन की है,
हमारे जिस्म की मिट्टी, इसी ज़मीन की है।

– राहत इंदौरी

You Might Also Like

No Comments

    Leave a Reply