Browsing Category

Life Shayari

Shayari on Life – This category contains the shayari on various aspects of life including dard, happiness, social and lots of other shayaris on life.

Life Shayari

Unka Intezaar Sad Shayari

जख़्म इतना गहरा हैं इज़हार क्या करें।
हम ख़ुद निशां बन गये ओरो का क्या करें।

मर गए हम मगर खुली रही आँखे हमारी,
क्योंकि हमारी आँखों को उनका इंतजार हैं।

Life Shayari

Ajeeb Din Shayari on Life

न सो सका हूँ न शब जाग कर गुज़ारी है
अजीब दिन हैं सुकूँ है न बे-क़रारी है

~ ज़ुहूर नज़र

Life Shayari

Zinda Shayari on Life

किसी दिन ज़िंदगानी में करिश्मा क्यूं नहीं होता,
मैं हर दिन जाग तो जाता हूं ज़िन्दा क्यूं नहीं होता।

– Rajesh Reddy

Life Shayari

Ek Roz Life Shayari

ज़रा सी चोट लगी, कि चलना भूल गए,
शरीफ लोग थे, घर से निकलना भूल गए,

तमाम शहर में घूमे किसी ने नहीं पहचाना,
हम एक रोज़ जो चेहरा बदलना भूल गए!

Life Shayari Sad Shayari

Sad Shayari on Life

Sad Shayari on Life

Sad Shayari on life – The life is full of sorrow and there is nothing easy to get in life. There is a hidden but certain sadness in everybody’s life which makes feel so bad that sometime you just want to hide yourself somewhere. When you want to happy, life makes you sad, suddenly. There is a great bond between sadness and life. Then, these are the words of Shayari which brings the ray of hope in darkness of sad life. We at Shayari Network always try to craft the words which can calm down a restless soul living this heartbreaking life.

आँसू निकल पड़े…
इतना तो ज़िंदगी में, न किसी की खलल पड़े,
हँसने से हो सुकून, न रोने से कल पड़े,
मुद्दत के बाद उसने, जो की लुत्फ़ की निगाह,
जी खुश तो हो गया, मगर आँसू निकल पड़े।


इस मोहब्बत की किताब के,
बस दो ही सबक याद हुए,
कुछ तुम जैसे आबाद हुए,
कुछ हम जैसे बरबाद हुए।


तेरी आँखों में सच्चाई की एक राह दिखाई देती है,
तू है मोहब्बत का दीवाना ऐसी चाह दिखाई देती है,
माना कि ठोकर खाई है जमाने में बेवफाओं से,
पर तू आशिक है तुझमें मोहब्बत की चाह दिखाई देती है।


तुम अगर याद रखोगे तो इनायत होगी,
वरना हमको कहाँ तुम से शिकायत होगी,
ये तो बेवफा लोगों की दुनिया है,
तुम अगर भूल भी जाओ तो रिवायत होगी।


तेरे शहर में आ कर बेनाम से हो गए,
तेरी चाहत में अपनी मुस्कान ही खो गए,
जो डूबे तेरी मोहब्बत में तो ऐसे डूबे,
कि जैसे तेरी आशिक़ी के गुलाम ही हो गए।