Mohabbat Shayari

Mohabbat Gunaah Shayari

मैंने तो बस मोहब्बत ही की थी,
फिर क्यों लग रहा है ऐसा,
कोई गुनाह किया हो जैसा।

~ शायरी नेटवर्क

You Might Also Like

No Comments

    Leave a Reply