Isi Ka Naam Hai Zindagi

हजारों उलझनें राहों में, और कोशिशें बेहिसाब,
इसी का नाम है ज़िन्दगी, चलते रहिये जनाब!

शादी के बाद लड़के की तोंद

अगर शादी के साल भर बाद भी बाद लड़के की तोंद ना निकले…
.
.
.
तो समझ लीजिए कि लड़का
अपनी शादी से खुश नहीं है।

तरुण, शाहदरा

Tanha Dosti Sad Shayari

मुझे दुश्मन से अपने इश्क़ सा है,
मैं तन्हा आदमी की दोस्ती हूँ।

– बक़र मेहदी

दोनों को पसंद अलग-अलग बियर

बियर तो हम दोनों को पसंद है।

उसे टेडी वाला बियर और मुझे…
.
.
.

स्ट्रॉन्ग वाली बियर!

अमन, दिल्ली

जब शादी में पहुंच गया पप्पू

शादी में जाओ तो लोग कहते हैं,
खाना खाकर जाना…
.
.
.

उन्हें कौन समझाए कि हम खाना ही तो खाने आए हैं।

पप्पू, मुंबई

Mulaqat Shayari in Urdu

Mulaqat Shayari in Urdu

Kabhi Teri Meri Mulaqat Ho,
Na Tootne Wala Sath Ho,

Tere Sath Zindagi Guzre,
Musarton Bhari Hyat Ho…

– M.Asghar Mirpuri

Dost Dosti Nibha De Shayari

मुझे दोस्त कहने वाले ज़रा दोस्ती निभा दे,
ये मुतालबा है हक़ का कोई इल्तिज़ा नहीं है।

– शकील बदायुनी

Hamsa Pagal Shayari

हमारे बिन अधूरे तुम रहोगे,
कभी ना चाहा किसी ने खुद तुम कहोगे,
हम ना होंगे तो ये आलम ना होगा,
मिलेंगे बहुत से पर हम सा कोई हमसा पागल ना होगा ।

पप्पू को SBI बैंक में हुआ अहसास

मैं कल पासबुक में एंट्री कराने SBI बैंक गया…
.
.
.
चार घंटे बाद अहसास हुआ कि
विजय माल्या ने इनके साथ ठीक ही किया।

पप्पू, लखनऊ

Gunaah Tarze-Nigaah

Gine Huye Kadam Inhraaf Kya Hote
Gunaah Tarze-Nigaah Tha, Maaf Kya Hota

Jhuki Hui Meir Aakhein, Sile Huye Mere Lab
Ab Is Se Badh Kar Tera Etraaf Kya Hota

Khud Apni Vehshate-Jaan Se Wafa Na Ki Hum Ne
Zamana Aur Humare Khilaaf Kya Hota

Diye To Ab Bhi Diye Hain Vo Bazm Ho Ki Harm
Bhujhe Huye Dilon-Jaan Se Tavaaf Kya Hota

Sitara Tha Bhi To Aansu Ki Istaara Tha
Kisi Falak Ka Yahan Inkishaf Kya Hota

Vahi Gubaare-Tammana, Vahi Shamime Dua
Tu Rozo Shab Mein Mere Ikhtilaaf Kya Hota…

– Parveen Shakir

Aap Meri Jaan

Romantic and Lovely

Jab Se Meri Aap Se Mulakat Ho Gayi Hai,
Dost Kahte Hain Aap Meri Jaan Ho Gayi Hai,

Azeeb Kashmkash Mein Uljha Hua Hun Main,
Ab Har Saans Meri Aapki Gulam Ho Gayi Hai,

Jab Se Aayi Hain Aap Meri Zindagi Mein,
Har Khushi Dil Se Hum-Zubaan Ho Gayi Hai,

Aapke Hothhon Par Kya Aayi Gazlein Meri,
Us Din Se Meri Har Shayari Bhi Jawaan Ho Gayi Hai,

Aap Chha Gaye Hain Meri Zindagi Pe Is Kadar,
Har Ek Meri Dhadkan Aapki Gulam Ho Gayi Hai,

Jee Chahta Hai Baahon Mein Samet Loon Aapko,
Sukun Chhin Gaya Hai, Neend Haraam Ho Gayi Hai,

Dekhkar Khuli Huyi Zulfein Aapki Eh Sanam,
Ghatayein Sham Ki Pareshaan Ho Gayi Hai,

Sunkar Jhankaar Aapki Paayal Ki Eh Sanam,
Mahfil Sangeet Ki Bejubaan Ho Gayi Hai,

Jab Se Meri Aap Se Mulakat Ho Gayi Hai,
Dost Kahte Hain Aap Meri Jaan Ho Gayi Hai…

Dosti Zamane Se Shayari

दिन सलीक़े से उगा रात ठिकाने से रही,
दोस्ती अपनी भी कुछ रोज़ ज़माने से रही।

~ निदा फ़ाज़ली