Categories
Hindi Jokes

भारत में कोई काम भूलने पर

कोई भी काम भूलने पर भारत में सबसे ज्यादा बोले जाने वाला व्यंग्य बाण…
.
.
.

रोटी खाना तो नहीं भूलता।

सिद्धू, पंजाब

Categories
Sad Shayari

Taare Tutt Jaate Hai

कभी कभी मोहब्बत में वादे टूट जाते हैं,
इश्क़ के कच्चे धागे टूट जाते हैं,
झूठ बोलता होगा कभी चाँद भी,
इसलिए तो रुठकर तारे टूट जाते हैं।

Categories
Dard Shayari

Mahfil Ko Rula

कहाँ कोई ऐसा मिला जिस पर हम दुनिया लुटा देते,
हर एक ने धोखा दिया, किस-किस को भुला देते,
अपने दिल का ज़ख्म दिल में ही दबाये रखा,
बयां करते तो महफ़िल को रुला देते।

Categories
Sad Shayari

Humne Kisi Ka Dil

जहाँ खामोश फिजा थी, साया भी न था,
हमसा कोई किसी जुर्म में आया भी न था,
न जाने क्यों छिनी गई हमसे हंसी,
हमने तो किसी का दिल दुखाया भी न था।

Categories
Sad Shayari

Na Vo Sapna Dekho

न वो सपना देखो जो टूट जाये,
न वो हाथ थामो जो छूट जाये,
मत आने दो किसी को करीब इतना,
कि उसके दूर जाने से इंसान खुद से रूठ जाये।

Categories
Dard Shayari

Kaanto Si chubhti Hai

कांटो सी चुभती है तन्हाई,
अंगारों सी सुलगती है तन्हाई,
कोई आ कर हम दोनों को ज़रा हँसा दे,
मैं रोता हूँ तो रोने लगती है तन्हाई।

Categories
Sad Shayari

Vo Kareeb Hi Naa Aaye

वो करीब ही न आये तो इज़हार क्या करते,
खुद बने निशाना तो शिकार क्या करते,
मर गए पर खुली रखी आँखें,
इससे ज्यादा किसी का इंतजार क्या करते।

Categories
Dard Shayari

Bina Dil Walo Se

अनजाने में यूँ ही हम दिल गँवा बैठे,
इस प्यार में कैसे धोखा खा बैठे,
उनसे क्या गिला करें, भूल तो हमारी थी,
जो बिना दिल वालों से ही दिल लगा बैठे।

Categories
Hindi Jokes

अभी सांस लेने की फुर्सत नहीं

अभी सांस लेने की फुर्सत नहीं है कि तुम मेरी बाहों में हो…
.
.
.
इस कविता में कवि कह रहा है कि
माशूका वजन में बहुत भारी है।

स्वप्नल, नोएडा

Categories
Hindi Jokes

पति-पत्नी का मजेदार झगड़ा

पति-पत्नी का झगड़ा भी अजीब होता है…
.
.
.
ना थाना, ना गवाही, बस दो दिन मुंह फुलाकर
अपने आप सुलझ जाता है।

संदीप, दिल्ली

Categories
Hindi Jokes

जिंदगी में सबसे सुखी आदमी

जिंदगी में सबसे सुखी गंजा आदमी होता है…
.
.
.
… क्योंकि उसकी
कोई ‘मांग’ नहीं होती।

सैंडी, रायबरेली

Categories
Hindi Jokes

फेसबुक पर लोगों की कैटिगरी

फेसबुक पर दो ही तरह के लोग मिलते हैं…
.
.
.
एक मुलाकात के काबिल और
दूसरे मुक्का-लात के काबिल!

उत्कर्ष, कानपुर