Categories
Sad Shayari

Humne Kisi Ka Dil

जहाँ खामोश फिजा थी, साया भी न था,
हमसा कोई किसी जुर्म में आया भी न था,
न जाने क्यों छिनी गई हमसे हंसी,
हमने तो किसी का दिल दुखाया भी न था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *