Sad Shayari

Vo Kareeb Hi Naa Aaye

वो करीब ही न आये तो इज़हार क्या करते,
खुद बने निशाना तो शिकार क्या करते,
मर गए पर खुली रखी आँखें,
इससे ज्यादा किसी का इंतजार क्या करते।

You Might Also Like

No Comments

    Leave a Reply