Yaad Shayari

Love Shayari on Yaad

दो जवाँ दिलों का ग़म, दूरियाँ समझती हैं,
कौन याद करता है , हिचकियाँ समझती हैं।

You Might Also Like

No Comments

    Leave a Reply