Categories
Zindagi Shayari

Zindagi Sham Shayari

कभी इतराती तो कभी जुल्फों को बिखराती है,
ज़िदगी शाम है, और शाम ढली जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *